राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET):3 साल ही रखी जाए वैधता अवधि

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET):3 साल ही रखी जाए वैधता अवधि:- राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने जिला कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजे पत्र


अजमेर

केंद्र सरकार के TET प्रमाण पत्र की वैधता आजीवन किए जाने के बाद अब राजस्थान में राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) की वैधता को लेकर अभ्यर्थियों ने अपनी अपनी मांग करना शुरू कर दिया है। राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने जिला कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर रीट की वैधता अवधि तीन साल ही रखने की मांग की है।

महासंघ से जुडे़ राजेन्द्रसिंह चौधरी ने कहा कि सीटेट केवल पात्रता परीक्षा है, जबकि रीट पात्रता के साथ साथ चयन परीक्षा भी है। इसलिए अगर वैधता अवधि बढ़ाई तो 17 लाख बेरोजगारों के साथ अन्याय होगा। इसलिए इसकी वैद्यता तीन साल ही रखने की मांग को लेकर प्रत्येक जिला मुख्यालय पर जिला कलक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपे गए। अजमेर में राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सचिव व जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया है।

गौरतलब है कि राजस्थान में होने वाली तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के लिए आरटेट का अब नाम राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) है जो काफी चर्चा में रहती है। पूर्व में इसकी तिथि 25 अप्रेल थी,जिसे स्थगित कर 20 जून कर दिया गया। हालाकिं इस तिथि को लेकर भी असमजंस है और बोर्ड की ओर से कोई अन्य तिथि जारी नहीं की गई है। इसमें करीब 16 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।

*यह मामला*

गत दिनों केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश चंद्र पोखरियाल निशंक ने सी टेट और टेट प्रमाण पत्रों को आजीवन वैद्य करने के लिए अमेंडमेंट जारी किया है। इस अमेंडमेंट को केंद्रीय विद्यालयों जैसी संस्था ने भी लागू कर दिया है। देश की शिक्षा के क्षेत्र में सबसे बड़ी संस्था एनसीआरटी ने यह फैसला उच्च शिक्षा में नेट जेआरएफ के तर्ज पर अभ्यर्थियों के हक में निर्णय लेते हुए किया है और इस निर्णय में यह बताया गया है सभी राज्य सरकारों को 2011 के बाद के जितने भी टेट/रीट प्रमाण पत्र हैं । उन सब को फिर से आजीवन वैद्य मानते हुए नए सिरे से पुनः आजीवन वैधता के रूप में जारी करने के लिए आदेशित किया है।


------------------------------------------------
*REET-2021; 20 जून को होगी या नहीं*

*RBSE की वेबसाइट पर भी कोई सूचना नहीं, परीक्षा तिथि को लेकर असमजंस में अभ्यर्थी*


अजमेर


राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से आयोजित की जाने वाली राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) की तिथि को लेकर अभ्यर्थियों में असमंजस की स्थिति है। बोर्ड की ओर से 12 अप्रैल को प्रेसनोट जारी कर जानकारी दी गई कि परीक्षा 20 जून को होगी। इसके बाद न तो बोर्ड की ओर से कोई जानकारी दी गई और न ही इस बारे में कोई जानकारी बोर्ड की वेबसाइट पर अपडेट की गई।

REET के लिए प्रदेशभर से रिकॉर्ड 16.40 लाख अभ्यर्थियों के आवेदन मिले हैं। लेवल-वन और टू, यानी दोनों में 9 लाख 13 हजार 183 अभ्यर्थी ने आवेदन किया है। सिर्फ लेवल-वन में 3 लाख 63 हजार 317 और लेवल-टू में 3 लाख 63 हजार 819 अभ्यर्थी ने आवेदन किया है।

*अपडेट नहीं वेबसाइट*

राजस्थान रोजगार संघ के प्रदेश अध्यक्ष असलम चौबदार ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से अपनी ऑफिशियल वेबसाइट पर रीट को लेकर सूचना अपडेट नहीं की है। ऐसे में अभ्यर्थी भ्रमित हो रहे हैं। 20 जून की तिथि में बदलाव को लेकर शिक्षा मंत्री गोविन्दसिंह डोटासरा का बयान जरूरी आया है। सरकार ने EWS कैटेगरी को लाभ देते हुए फाॅर्म खोलने की बात कही थी, लेकिन उस पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

*इसके बाद तिथि को लेकर कोई निर्णय नहीं*

प्रदेश सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर (EWS) सामान्य वर्ग के छात्रों को उम्र सीमा में अन्य वर्गों की तरह आरक्षण किया। इसमें पुरुषों को अधिकतम उम्र सीमा में 5 साल जबकि महिला अभ्यर्थियों को 10 साल की छूट दी। साथ ही, परीक्षा शुल्क में भी रियायत का प्रावधान किया। सरकार के निर्णय के बाद कार्मिक विभाग ने भर्ती एजेंसियों को दिशा-निर्देश जारी किए। इसके बाद राजस्थान बोर्ड ने परीक्षा तिथि 25 अप्रैल को स्थगित कर 20 जून कर दी। इसके बाद कोई निर्देश नहीं जारी किए गए।

_________________________________________


राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा:केंद्र के आदेश को राजस्थान में लागू करे सरकार; आजीवन हो REET प्रमाण पत्र, राजस्थान रोजगार महासंघ ​​​​​​​ने उठाई मांग


अजमेर,


केंद्र सरकार के TET प्रमाण पत्र की वैधता आजीवन किए जाने के बाद अब राजस्थान में भी बेरोजगारों ने इस आदेश को राज्य में लागू करने की मांग शुरू कर दी है। राजस्थान रोजगार महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष असलम चौपदार ने राज्य सरकार से एक प्रमाण पत्र से नौकरी का नियम लागू करवा कर राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) शिक्षक भर्ती जल्द पूरी कराने की मांग की है।



महासंघ का कहना है कि REET-2017 प्रमाण पत्र की वैधता बढ़वाने के लिए पिछले कई दिनों से ज्ञापन आदि के माध्यम से बेरोजगार राजस्थान सरकार से मांग कर रहे हैं कि उन्हें एक मौका और दिया जाए। कारण रीट परीक्षा 2 साल में कोरोना की वजह से नहीं हो पाई। नई रीट परीक्षा 5 बार स्थगित की जा चुकी है। इससे योग्य व्यक्ति और भी अयोग्य हो गए उनके साथ न्याय नहीं हुआ।




प्रभावित छात्र कुलदीप बेनीवाल के अनुसार सरकार को रीट की वैधता बढ़ानी चाहिए, जिससे योग्य बेरोजगार व्यक्तियों के साथ न्याय हो सके। बेनीवाल ने कहा कि कोरोना की वजह से हरियाणा, पंजाब और बिहार सरकार ने टेट की वैधता दो वर्ष बढ़ाई है। अतः राजस्थान सरकार को भी युवाओं के हित में वैधता बढ़ानी चाहिए। केंद्र सरकार की तर्ज पर राज्य सरकार वैधता बढ़ाती है तो राज्य सरकार नया सर्कुलर जारी कराए।




*यह मामला*




केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश चंद्र पोखरियाल निशंक ने सी टेट और टेट प्रमाण पत्रों को आजीवन वैद्य करने के लिए अमेंडमेंट जारी किया है। इस अमेंडमेंट को केंद्रीय विद्यालयों जैसी संस्था ने भी लागू कर दिया है। देश की शिक्षा के क्षेत्र में सबसे बड़ी संस्था एनसीआरटी ने यह फैसला उच्च शिक्षा में नेट जेआरएफ के तर्ज पर अभ्यर्थियों के हक में निर्णय लेते हुए किया है और इस निर्णय में यह बताया गया है सभी राज्य सरकारों को 2011 के बाद के जितने भी टेट/रीट प्रमाण पत्र हैं । उन सब को फिर से आजीवन वैद्य मानते हुए नए सिरे से पुनः आजीवन वैधता के रूप में जारी करने के लिए आदेशित किया है।



*सरकार के आदेश का इंतजार*



अभ्यर्थियों का कहना है कि राजस्थान सरकार को भी एनसीईआरटी के निर्णय का पालन करते हुए वैधता बढ़ानी चाहिए। कारण, शिक्षा क्षेत्र में होने वाले परिवर्तनों के लिए एनसीईआरटी को सभी राज्यों को अनुसरण करना अनिवार्य होता है। साथ में इस नियम में स्पष्ट तौर से पूर्व तिथि से लागू किया गया। अब अभ्यर्थी राज्य सरकार के फैसले के इंतजार में हैं कि राज्य सरकार इस नियम को अभी लागू करती है या बाद में करती है।


*पूर्व के प्रमाण पत्रों की वैधता अवधि हो रही है खत्म*



अभ्यर्थियों का कहना है कि पूर्व के प्रमाण पत्र की वैधता अवधि समाप्त हो रही है। हाल ही दिनों में काफी युवाओं ने यह मांग भी रखी है, ऐसे में राज्य के सभी बेरोजगारों में यह उम्मीद जगी है कि राज्य सरकार सभी प्रमाण पत्रों की वैधता बढ़ाऐगी। राजस्थान में होने वाली तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के लिए आरटेट का नाम राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) है जो काफी चर्चा में रहती है। पूर्व में इसकी तिथि 25 अप्रेल थी,जिसे स्थगित कर 20 जून कर दिया गया। इसमें करीब 16 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।




Post a Comment

0 Comments